IPL 2020 : ‘आत्मनिर्भर भारत ‘ के इस दौर में टीमों का ज्यादा भरोसा विदेशी कोच पर !

IPL 2020  का मुकाबला सामने है।अब जबकि टीमों की ग्राउंड और ग्राउंड के बाहर प्लानिंग बोर्ड पर तैयारी तेजी से चल रही है तो ये सवाल बड़ा ख़ास है कि तैयारी के पीछे कौन कौन  सा दिमाग काम कर रहा है? अब किसी भी टीम की मैच की तैयारी में कोच उतने ही

दिलीप वेंगसरकर हॉल ऑफ़ फेम में शामिल !

भारतीय क्रिकेट के लिए एक और अच्छी खबर - भारत के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ों में से एक दिलीप वेंगसरकर स्पोर्ट्समेंस एथलेटिक क्लब के हॉल ऑफ़ फेम में शामिल। ICC  हॉल ऑफ़ फेम की शुरुआत के बाद इसे जो चर्चा मिली उसमें अन्य सभी सम्मान पीछे रह गए पर इससे किसी भी सम्मान का

क्या है पुराने क्रिकेटरों के अनुभव का फायदा ?

ऐसे दिनों में जबकि हर चर्चा में सिर्फ आईपीएल  का जिक्र हो रहा है , ये बड़ा अच्छा है कि BCCI ने इस बात को नहीं भुलाया कि  घरेलू क्रिकेट शुरू करने के दिन भी नज़दीक आ रहे हैं। कोविड के कारण घरेलू सीजन प्रभावित होगा ये सभी जानते हैं पर

स्टेडियम में खिलाड़ियों के नाम की प्रेरणा कई नए खिलाड़ी सामने लाती है !

हाल के दिनों में भारत में जितने भी स्टेडियम में किसी स्टैंड या गेट के नामकरण  की जो ख़बरें आईं, उनमें से ज्यादातर में क्रिकेट या क्रिकेटरों का ही जिक्र था। ऐसे में ये खबर खेल प्रेमियों , ख़ास तौर पर  फुटबॉल प्रेमियों को बड़ी अच्छी लगेगी कि सिक्किम में एक फ्लडलिट,15000

74 अवार्ड  और इनाम में बढ़ोतरी भी !

खेल दिवस के मौके पर भारत सरकार की स्पोर्टस मिनिस्ट्री की दो घोषणा ध्यान देने वाली हैं। ये दोनों देश में खेलों के बढ़ते महत्व और खिलाड़ियों की मेहनत को  सही नज़रिए से देखने का सबूत हैं। खिलाड़ी दिन रात की मेह्नत और पसीना बहाने के बाद मैडल जीतता है। तब वह अवार्ड  और इनाम

टेस्ट करियर के इन दो पहलू ने चेतन चौहान को खास और अलग बनाया – by Charanpal Sobti

भूतपूर्व टेस्ट क्रिकेटर चेतन चौहान के निधन के बाद  खास तौर पर उनके टेस्ट करियर के बारे में बहुत कुछ लिखा गया। 7 वन डे इंटरनेशनल में 21.85 औसत से 153 रन बनाए पर उनका कहीं जिक्र नहीं हुआ। असल में उन्हें पहचाना ही 3-5 दिन वाली क्रिकेट के लिए गया।

प्रवीन ताम्बे ने दिखा दिया कि उम्र तो महज एक गिनती हैप्रवीन ताम्बे ने दिखा दिया कि उम्र तो महज एक गिनती है!

सीपीएल यानि कि केरेबियन प्रीमियर लीग में खेलने वाले पहले भारतीय  क्रिकेटर बन गए प्रवीन  ताम्बे।  इस खबर के साथ दो बातें जुड़ी हैं। पहली -  प्रवीन  ताम्बे ने लगभग 48  साल की उम्र में  सीपीएल में अपना पहला मैच खेला। दूसरी -  भारतीय  क्रिकेटरों के भारत से बाहर पेशेवर टी 20 लीग

ख़राब रोशनी पर टेस्ट में खेल रोकने के मामले को सही नज़र से देखना होगा !

ख़राब रोशनी पर टेस्ट में खेल रोकने के मामले को सही नज़र से देखना होगा एक टीम टेस्ट में लगभग निश्चित हार के कगार पर हो और तब बरसात या ख़राब रोशनी हार बचाने में मदद कर दें तो ऐसे में बची टीम कतई शिकायत नहीं करेगी। दूसरी टीम के बारे