Unbelievable-Just 20 Yrs – overcomes blood cancer to qualify for Olympics!

आइकी रिक्को : जापान की इस स्विमर ने ल्यूकेमिया का पता लगने के 2 साल और लंबे इलाज के बाद टोकियो ओलंपिक के लिए जापान की 4×100 मीटर रिले टीम में जगह बनाई 
 इसे चमत्कार ही तो कहेंगे  कि जिन आइकी रिक्को के लिए उम्मीद के नाम पर कुछ नहीं बचा था , वे 2021 टोकियो ओलंपिक के लिए जापान की 4×100 मीटर रिले टीम में एक स्विमर होंगी। इस 20 साल की स्विमर ने ओलंपिक ट्रायल में 57.77 सेकंड में 100 मीटर बटर फ्लाई को जीता और इसी से मेडले रिले के लिए क्वालीफाई किया – 2 साल पहले ल्यूकेमिया  का पता लगने के बाद। इलाज में मौत को भी सामने देखा था पर न सिर्फ पूल में लौटीं, 7 महीने बाद ओलंपिक के लिए क्वालिफाई भी कर लिया। बहरहाल 57.77 सेकंड के समय से वे इंडिविजुअल मुकाबलों के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाईं। वैसे 100 मीटर बटर फ्लाई इवेंट में  56.08 सेकंड का जापान रिकॉर्ड उनके ही नाम है।   
 
आइकी ने पहली बार सभी को, फरवरी 2020 में,अपनी कैंसर की बीमारी के बारे में बताया था – तब कहा था कि अगर जिन्दा रह गईं तो ये चमत्कार होगा। ऐसे में आसानी से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि अब वे कितनी खुश हैं।जापान स्विमिंग टीम के कोच हीरी नोरिमासा ने कहा – उन्हें ये सब देखकर कतई हैरानी नहीं क्योंकि वे आइकी की हिम्मत को जानते हैं।आइकी अभी भी ओलंपिक में इंडिविजुअल मुकाबलों के लिए क्वालीफाई कर सकती हैं – हालांकि खुद जापान का क्वालिफिकेशन टाइम 57.10 सेकंड है पर वे ट्रायल्स में सेमीफाइनल में तीसरी सबसे तेज थीं। 
 
आइकी ने रियो 2016 ओलंपिक में सात इवेंट में हिस्सा लिया था- 100 मीटर फ्लाई में पांचवां नंबर उनका सबसे बेहतर प्रदर्शन था।आइकी ने 2018 पैन पैसिफिक चैंपियनशिप में 100 मीटर बटरफ्लाई को जीता,जो उस साल की सबसे बड़ी स्विमिंग मीट थी। 200 मीटर फ्री में सिल्वर जीता। बाद में  2018 एशियाई खेलों में चार इंडिविजुअल गोल्ड सहित कुल 6 गोल्ड जीते।2018 एशियाई खेल (इंडोनेशिया में) , आइकी इंडिविजुअल इवेंट में 6 गोल्ड जीतने वाली पहली तैराक बनी। दो सिल्वर भी जीते। जापान लौटने के बाद, आइकी को पता चला कि टूर्नामेंट के लिए मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर का अवार्ड भी जीता है। एक महिला एथलीट के लिए ये सब हासिल करने का पहला मौका  था।
 
पिछले साल जब पूल में वापस लौटीं तो अपने लिए लक्ष्य 2024 पेरिस ओलंपिक को बनाया था – टोकियो 2020 में हिस्सा लेना तो किसी सपने की तरह से था। संयोग से ओलंपिक एक साल के लिए स्थगित हो गए और आइकी का लक्ष्य बदल गया। 2019 में ल्यूकेमिया का पता चलने से पहले ही आइकी को टोकियो ओलंपिक 2020 के लिए जापान की मैडल जीतने के लिए सबसे बड़ी उम्मीद माना जा रहा था।इलाज के बाद वे फिटनेस के लिए जूझती रहीं और पिछले साल अगस्त में पूल में वापसी की।50 मीटर इवेंट से शुरुआत की और उसके बाद ही टोकियो के लिए क्वालिफाई करने के बारे में सोचा।आइकी इस समय चार इंडिविजुअल इवेंट (50 मीटर फ़्रीस्टाइल, 100 मीटर फ़्रीस्टाइल, 200 मीटर फ़्रीस्टाइल, 100 मीटर बटरफ्लाई) और तीन रिले इवेंट (4×100 मीटर फ़्रीस्टाइल रिले, 4×200 मीटर फ़्रीस्टाइल रिले और 4×100 मीटर) में तैरने की प्रैक्टिस कर रही हैं।  
वे सबसे अलग हैं  और टोकियो में नया इतिहास लिखने के लिए तैयार। 
 
– चरनपाल सिंह सोबती