This Indian Tennis star is learning from Dhoni and Virat….

‘वाइल्ड कार्ड एंट्री ‘ की बदौलत सुमित नागल खेलेंगे 2021ऑस्ट्रेलियन ओपन में 
 
किसी भी टेनिस खिलाड़ी का सपना ग्रैंड स्लैम जीतना तो होता ही है – उससे भी पहले वह हर ग्रैंड स्लैम के मुख्य ड्रा में खेलने का सपना देखता है। इसीलिए भारत के नंबर 2 (पहले : प्रज्नेश गुन्नेश्वरन -129) और विश्व नंबर 136 सुमित नागल 2021ऑस्ट्रेलियन ओपन में वाइल्ड कार्ड की बदौलत सिंगल्स के मुख्य ड्रा में खेलने का मौका मिलने पर बड़े खुश हैं।एशिया- पेसिफिक से दो और कुल 8 खिलाड़ियों को वाइल्ड कार्ड मिला और सुमित नागल उनमें से एक हैं (एशिया-पेसिफिक से दूसरे : चीन के वांग जियू)। इन 8 में किसी समय विश्व नंबर एक एंडी मुरे भी हैं।  
 

सुमित नागल यूएस ओपन  खेल चुके हैं और अब ऑस्ट्रेलियन ओपन की बारी है। इतना ही नहीं सुमित ने तो 2020 यूएस ओपन में अपना पहला मुख्य ड्रॉ मैच जीता भी (उसी तारीख को जब 2013 में पहली बार जूनियर स्लैम के लिए क्वालिफाई किया था)। वहां पहले राउंड में यूएसए के ब्रैडली क्लैन को 6-1, 6-3, 3-6, 6-1 से हराकर दूसरे राउंड में जगह बनाई थी। 23 साल के नागल तब पिछले सात सालों में किसी ग्रैंड स्लैम में सिंगल्स के मुख्य टूर्नामेंट में मैच जीतने वाले पहले भारतीय बने थे (इससे पहले :2013 में, सोमदेव देववर्मन ऑस्ट्रेलियन ओपन, फ्रेंच ओपन और यूएस ओपन के दूसरे राउंड  में पहुँचे थे)। तब नंबर122 नागल का दूसरे राउंड में ऑस्ट्रिया के डोमिनिक थिएम से मुकाबला था पर वहां  3-6, 3-6, 2-6 से हार गए।नागल बहरहाल इस हार से निराश नहीं थे क्योंकि वे मानते हैं कि हर बड़े खिलाड़ी से खेलने में ही बहुत कुछ सीखने का मौका मिलता है। नागल ने कहा, “कभी-कभी जब ऐसे खिलाड़ी से खेलते हैं जो दुनिया में टॉप 3-4 में हैं, तो पता लगता है अभी बहुत कुछ करना है।” इसीलिए ऐसे हर मुकाबले को वे अपने अनुभव में बढ़ोतरी गिनते हैं। वे मानते हैं कि अपनी पहली स्लैम जीत हमेशा याद रहती है।

 
फ्रेंच ओपन 2020 के लिए पेरिस जाने से पहले नागल जर्मनी गए ट्रेनिंग के लिए। तब भी क्वालिफाइंग टूर्नामेंट के पहले राउंड में हार गए थे। अब ऑस्ट्रेलियन ओपन के साथ न सिर्फ एक और ग्रैंड स्लैम में खेलने का सपना पूरा हो रहा है, वे विश्व में टॉप 100 में आने की अपनी कोशिश में भी इसे एक ख़ास कदम मानते हैं।


झज्जर में जन्मे, सुमित नागल धीरे – धीरे आगे बढ़ रहे हैं।पिछले 20 महीने में उन्होंने मॉडर्न टेनिस में तीन सबसे बड़े नाम का सामना किया है: 20+ बार के चैंपियन रोजर फेडरर (2019 यूएस ओपन), तीन बार के स्लैम विजेता स्टेन वावरिंका (2020 चैलेंजर) और डोमिनिक थिएम। 2019  यूएस ओपन के पहले  राउंड में रोजर फेडरर  से हारना भी वे इसी कड़ी में गिनते हैं। क्या ये कम है कि वे स्विस मास्टर से पहला सेट जीत गए थे हालाँकि आखिर में  4-6, 6-1, 6-2, 6-4 से हारे। बहरहाल उनके फेवरिट राफ़ा (नडाल) हैं – हमेशा जीतने के जोश की वजह से। 
 
वे टेनिस में आगे बढ़ने के लिए भारत के तीन सुपरस्टार से भी कुछ न कुछ सीख रहे हैं – एमएस धोनी से दिमाग का सही इस्तेमाल, विराट कोहली से उनका डिसिप्लिन और सुनील छेत्री से उनका खेल के लिए प्यार।सुमित नागल के मेंटोर महेश भूपति हैं और कोच एस नेनसेल। 
 
– चरनपाल सिंह सोबती

 
Show Buttons
Hide Buttons