“ऐसे दिन भी थे जब हमें ये पता नहीं होता था कि हमारा अगला खाना कब आएगा।”- खेल रत्न अवार्ड महिला कहती हैं।